Latest Post

Sunday, July 26, 2020

कंप्यूटर के बारे में छोटी छोटी बातें(-Basic Knowledge of Computer)-








कंप्यूटर की कक्षा(Classes Of Computer)
--Sujeet Kumar Morya


माऊस व्हील एक तीसरा बटन(Mouse Wheel)
Mouse Wheel एक तीसरे बटन की तरह काम करता है। किसी भी Link पर Mouse Wheel को Click करने से वह जालपृष्ठ सीधे एक New Tab में खुल जाता है। किसी भी खुले हुए Tab पर Mouse Wheel Click करने पर वह Tab बन्द हो जाता है।
बड़ा टेक्स्ट एक साथ सेलेक्ट करने के लिये(Big Text Select With All)
किसी भी Text Editor में बड़ा Text एक साथ Select करने के लिये Text के प्रारंभ में एक Click करें और फिर Shift दबाकर अंत में एक बार Click करें। इससे Text को आसानी से Select किया जा सकता है।

इसे भी देखे -Top 5 Hindi Blog और Blogger लाखों पैसे कमातें है

Yo-Tube पर प्रदर्शित Video की गुणवत्ता कम ज्यादा कर के
हम उसके Load होने का समय भी कम ज्यादा कर सकते हैं। और Video को थोड़ा अच्छा या थोड़ा खराब देख सकते हैं। Quality जितनी अच्छी होगी Load होने में उतना अधिक Time लगेगा। Video की Quality Player के निचले Right Side में एक Number के रूप में लिखी होती है और उसी जगह Click करके उसे बदला भी जा सकता है। ये Number कुछ इस प्रकार होती हैं 240p, 360p, 720p, 1080p इत्यादि। जितनी बड़ी संख्या उतनी अच्छी Quality ।Key की सहायता से जालपृष्ठ को Refresh or Reload करना
F5 Key से हम किसी भी Current Tab को Refresh या Reload कर सकते हैं।
 

कुंजी (Key) की सहायता से आगे पीछे के जालपृष्ठों(Tab) पर जाना
Alt कुंजी के साथ <left arrow> या <right arrow> से हम पहले या बाद के जालपृष्ठ(Tab) पर जा सकते हैं।
 

Ctrl कुंजी के साथ + और - दबाने से
किसी भी जालपृष्ठ(Tab) के आकार (चित्र और अक्षर दोनों) को बड़ा या छोटा किया जा सकता हैं। बड़ा या छोटा करते हुए Original Size में लाने के लिए Ctrl + 0 का प्रयोग कर सकते हैं।
 

नए जालस्थल(Address Bar) का पता लिखना हो तो-
बिना Mouse Click किए Alt+D दबा कर हम Address bar पर पहुँच सकते हैं 

सभी Browser के लिये उपलब्ध XMarks (http://www.xmarks.com) Extension के द्वारा एक Computer पर किसी एक Browser में लगाये गये पुस्तचिह्न (Bookmarks or Fevrate) अनेकों Computers तथा Browsers पर एक साथ लाए जा सकते हैं। केवल उन सब जगह X-Marks Install होना चाहिये। यही नहीं, इस Extension के द्वारा Browsing History, Open Tab, तथा Code Laungauge के साथ भी यही किया जा सकता है।    
 इसे भी देखे - Top 5 Hindi Blog और Blogger लाखों पैसे कमातें है

Internet पर Chat तथा बातचीत करने के लिए
कई अलग-अलग Softwares हैं जैसे कि Google Talk , Yahoo Massenger, Skype, इत्यादि। इन सबको अलग-अलग प्रयोग करने की जगह अगर Pidgin (http://pidgin.im/ ) नामक Free Software इस्तेमाल किया जाय तो यह लगभग सभी Chat Software का काम अकेले ही कर सकता है। इसके द्वारा किसी भीAccount से Chat की जा सकती है चाहें वो Google, Hotmail, Yahoo, Facebook, या कोई और। यही नहीं इसमें एक ही बार में अनेक Account से Chat तथा बात की जा सकती है। इसका एक और आकर्षण यह है कि यह Windows के साथ-साथ अन्य Operatin System जैसे Mac Os,Linux, B S D, इत्यादि पर भी उपलब्ध है।
 

गूगल प्लस (Google Plus)
(Google+) Facebook की तरह का एक Social Site है जिसे Google ने बनाया है। इसका प्रमुख आकर्षण यह है कि आपको आवश्यक रूप से अपने परिचितों को अलग-अलग "श्रेणियों" (Circles) में बाँटना होता है जो कि बड़ी आसानी से हो जाता है। हर Circle में अलग जानकारी डाली (Post) की जा सकती है जो बाकी सभी Circle से छुपी रहती है।
 

कूटशब्द (Code Laungauge Or Password) में अंकों व चिह्नों का प्रयोग
करने को अक्सर कहा जाता है लेकिन आजकल के Hackers की उन्नत Technic और Fast कम्पयूटरों को आगे यह तभी उपयोगी है जब इन्हें Original Code Launguage की लम्बाई बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाए। इनकी जगह या इनके साथ Code Laungauge को सुरक्षित बनाने के लिए उसका लम्बा होना अधिक आवश्यक है। एक सरल लेकिन 15-20 अक्षर लम्बा Code Laungauge एक अंकों व चिन्हों वाले 7-10 अक्षर लम्बे Code Laungauge की तुलना में कई गुना अधिक सुरक्षित है।
 

अलग-अलग Website के लिये
कभी भी एक ही Code Laungauge or Password का प्रयोग नहीं करना चाहिये क्योंकि अगर किसी भी कारणवश किसी एक Website का भी Password Hack हो गया तो आपके अन्य Website के Password भी जाने जा सकते हैं। विशेष रूप से Bank Website के Password बिलकुल अलग रखने चाहिये। Passworld के बारे में हम आगे भी बताते रहेंगे।
 

विज्ञापन रहित Web Travelling के लिये
AdblockPlus - Mossila Firefox  के लिये अत्यंत लाभदायक Extension है जो जालस्थलों से Ads हटा देता है। इससे जालस्थल काफ़ी Clean दिखते हैं और Bad Witch की भी बचत होती है। यह Google Chrome के लिये भी उपलब्ध है।
 

इसे भी देखे - 5 सबसे अच्छे फ्री एंड्राइड गेम्स – Top 5 Online and Offline Free Android Games

चीज़े कैसे काम करती हैं-
इस बारे में जानकारी के लिये- Howstuffworks.com- एक उपयोगी Website है। इस Website पर चित्रों और चलचित्रों की सहायता से जानकारी को बहुत ही रोचक ढंग से प्रस्तुत किया गया है।
 

जालस्थल(Website) पर मानचित्र(Maps) सेवा के लिये-
Maps.google.com उपयोगी है। खोज के लिए किसी Place का Nace देने पर वहाँ का Maps उपलब्ध हो जाता है जो एक Country जितने बड़े से लेकर कर एक मुहल्ले जितनी छोटी जगह के हो सकते हैं। यहाँ पर मानचित्र के साथ उपग्रह द्वारा लिए गए चित्र भी हैं। इस Website की एक और उपयोगिता यह है कि इस पर एक जगह से दूसरी जगह जाने के दिशा निर्देश भी मिल जाते हैं।
 

विकी Wiki क्या हैं?
ऐसे Website जिनके पन्नों में किसी भी तरह का बदलाव Browser में ही किया जा सकता है उन्हें Wiki कहते हैं। कुछ प्रमुख Wiki Sites हैं - Wikipedia, Kavitakosh, Bharatkosh,HindiMeWorld।
 

यदि Animation वाले Ad रोकना चाहें तो-
Flash Block  एक ऐसा Browser Extension है जो सभी Flash सामग्री को रोक देता है। हालांकि अगर हम चाहें तो चुने हुए Website पर Flash चलाने की अनुमति भी दे सकते हैं।
 

सैकड़ों जाल-अनुप्रयोगों का भंडार
Google के ही Website पर आई-गूगल (iGoogle) के नाम से सैकड़ों जाल-अनुप्रयोग उपलब्ध हैं। इनमें गूगल की सभी सेवाओं के साथ समाचार, मौसम, खेल, ज्योतिष आदि सभी कुछ अपनी रुचि के अनुसार जोड़ा जा सकता है। Website का रंग-रूप भी इच्छानुसार बदला जा सकता है। इसका Link Google  के मुखपृष्ठ (http://www.google.com) पर होता है पर अगर यह किसी कारणवश नहीं दिख रहा तो Website के ऊपरी दायें कोने पर "Sign in" के बगल में Wheel पर Click करें और विकल्पों में से iGoogle चुन लें। iGoogle से वापस साधारण Google पर जाना चाहें तो इसी पहिये पर Click कर के "Google Classic" का विकल्प चुन सकते हैं।
 

डीफ्रैगमैंट करने का Software
वैसे तो Windows में पहले से ही होता है परन्तु एक तो ये पीछे हो रही कार्यवाही को दर्शाता नहीं है और दूसरे यह बहुत अच्छा काम भी नहीं करता है। इसकी जगह काफी मुफ़्त Software उपलब्ध हैं जिनमें से हमारे कुछ पसंदीदा निम्नलिखित हैं-
१. माय डीफ्रैग ( http://www.mydefrag.com)- इसकी विशेषता यह है कि यह Files को पहचान कर उनके बढ़ने के लिए जगह बनाकर रखता है जिसके कारण Files दुबारा कम बिखरती हैं। इसका मुक्त होना भी एक आकर्षण है।
२. डीफ्रैगलर ( http://www.piriform.com/defraggler)- यह इस्तेमाल करने में आसान है और अपना काम काफ़ी तेज़ी से करता है। बहुत बड़ी (कई GB की) Files में इसे दिक्कत हो सकती है।
 

Hard Disk को डीफ्रैगमैंट करने की आवश्यकता-
काफी समय तक काम करते रहने पर Hard Disk पर लिखी हुई Files बिखर जाती है और कई टुकड़ों में बँट भी जाती हैं। इस कारण Computer की गति धीमी हो जाती है। इससे बचने के लिए कम से कम महीने में एक बार Hard Disk को डीफ्रैगमैंट अवश्य करना चाहिए।
 

नॉर्टन Norton तथा मैक ऐफी जैसे महँगे AntiVirus की जगह Free के अनेक Anti Virus उपलब्ध हैं जो गुणवत्ता में किसी भी तरह से कम नहीं हैं। इनमें से मुख्य निम्नलिखित हैं-
१. अवास्ट फ़्री ऐँटी वाईरस - http://www.avast.com/free-antivirus-download
२. अविरा ऐंटीविर पर्सनल फ़्री ऐँटी वाईरस - http://www.avira.com/en/avira-free-antivirus
३. माईक्रोसॉफ़्ट सिक्योरिटी एसेन्शियल्स - http://www.microsoft.com/en-in/security_essentials/default.aspx
४. पांडा क्लाउड ऐँटी वाईरस - http://www.cloudantivirus.com/en/
५. कोमोडो इंटरनेट सिक्योरिटी प्रीमियम - http://www.comodo.com/home/internet-security/free-internet-security.php


Wndows Vista तथा Windows 7 में
किसी खुली Window को Mouse से हिलाने पर बाकी खुली Window Minimize हो जाती है। दुबारा हिलाने पर ये सभी Window वापस आ जाती हैं।                          
 

इसे भी देखे - Top 5 Richest Man In the World - ये हैं दुनिया के 5 सबसे अमीरों की नई लिस्ट!

Wndows Vista तथा Windows 7 में
किसी खुली Window को Mouse से Screen के ऊपरी किनारे पर ले जाने पर वह Window Maximize होकर पूरे Screen पर आ जाती है।

 

Wndows Vista तथा Windows 7 में
किसी खुली Window को Mouse से Screen के बाएँ या दाएँ किनारे पर ले जाने पर वह Wnidow Screen के पूरे आधे भाग में व्यवस्थित हो जाती है।
 

एक से अधिक Wndow खुली होने पर उनमें घूमने के लिए   Alt + Tab का प्रयोग करते हैं। Window Vista तथा Windows 7 में Windows + Tab से यह काम त्रि-आयामी (3D)तरीके से बड़े रोचक ढंग से किया जा सकता है।
 

रेखा चित्रण के लिये
Corel Draw का बहुत ही अच्छा option नाम का अनुप्रयोग है। यह मुफ्त और मुक्त है और व्यवसायिक कलाकार भी इसका प्रयोग करते हैं। यह http://inkscape.org/ पर उपलब्ध है।


निनाईट डॉट कॉम (ninite.com)
एक ऐसा जालस्थल है जहाँ आप ढेरों Free अनुप्रयोगों में से अपने मतलब के अनुप्रयोग चुन सकते हैं और यह आपके लिये एक विशिष्ट रूप से निर्मित Installer बना देगा जो आपके चुने हुये अनुप्रयोग विश्वजाल से Download करके संस्थापित कर देगा।
 

फ़ोटोशॉप Photoshop का एक और Free Option मुफ्त विकल्प
अगर Photoshop की उन्नत क्षमताओं की आवश्यकता न हो तो Paint.Net अनुप्रयोग का इस्तेमाल किया जा सकता है। ध्यान रहे कि यह Free तो है पर मुक्त नहीं है। यह http://www.getpaint.net/ पर उपलब्ध है।
 

Photoshop का एक Free और मुक्त विकल्प
अनुप्रयोग जिम्प के नाम से उपलब्ध है। क्षमताओं के हिसाब से यह Photoshop के बराबर है। दिखने में थोड़ा अलग होने के कारण कुछ लोग इसे आज़माने में हिचकते हैं परन्तु एक बार इसका अनुभव हो जाने पर महँगे Photoshop के बदले आप इसे ही प्रयोग करना चाहेंगे। यह http://www.gimp.org/  पर उपलब्ध है।
 

MS Office के मुफ्त और मुक्त विकल्प
के लिये Open Office का प्रयोग किया जा सकता है। इसमें MS Office के लगभग सभी काम हो जाते हैं। इसमें Word के Option में Writer, Excell के Option में Calc तथा Power Point के Option में Impress मिलते हैं। यह http://www.openoffice.org/  पर उपलब्ध है। इसके अन्य संस्करण http://go-oo.org/  तथा
http://www.libreoffice.org/  से भी उपलब्ध हैं।
 

पहले किये हुए काम को वापस लाना-
Word, Excell तथा अन्य कई अनुप्रयोगों में, Ctrl+Z दबाकर पिछला किया हुआ काम पलटा जा सकता है। जैसे अगर हमने गलती से कुछ मिटा (Deleted) दिया हो तो Ctrl+Z से लेख वापस लाया जा सकता है।
 

लेख को सारणी में बदलना-
लेख को सारणी (Table) में बदलना झंझट का काम होता है। ऐसा करने के लिए पहले अपने लेख को अल्पविराम(कॉमा,Comma), Tab या किसी अन्य न इस्तेमाल किए हुए वर्ण से स्तम्भों को अलग करते हुए लिख लें। अब लेख को Select कर लें, फिर Table -> Convert -> Convert text to table पर Click करें। आवश्यकतानुसार विकल्पों को बदल कर OK पर Click करें। सारा लेख एक बार में Table में बदल जाएगा।
 

Password का प्रयोग-
अपने कंप्यूटर पर Files or Document को Secret रखने के लिए हम दो प्रकार के Password का प्रयोग कर सकते हैं-
1) Document को खोलने के लिए- Document को खोलने के लिए यदि Password लगाया गया है तो तो बिना सही Password दिए Document को खोला नही जा सकता है।
२) Document में Changes के लिए दिया गया Password - ऐसा Passwod देने पर कोई भी हमारा कोई भी हमारा Document खोल तो सकता है पर उसमें Changes नही कर सकता है।
इनमें से कोई भी Password देने के लिए Save as > Tools > General Options में जाकर Password दिया जा सकता है।
 

Book Marks या फेवरेट्स-
अगर हमें किसी जालपृष्ठ पर बार-बार जाने की आवश्यकता पड़ती है तो उसको हम अपने फेवरेट्स (Favorites) या बुकमार्क्स (Bookmarks) में जोड़ सकते हैं। फायरफॉक्स में जालपृष्ठ पर दाहिना क्लिक करके या बुकमार्क सूची में Bookmark This Page पर क्लिक करके बुकमार्क बन जाता हैं। इन्टरनेट एक्सप्लोरर मे यही काम करने के लिए बुकमार्क की जगह फेवरेट्स और बुकमार्क दिस पेज की जगह Add to favorites पर क्लिक करना होगा। क्रोम में तथा फायरफॉक्स में एड्रैस बार में तारे के चिन्ह पर क्लिक करके भी हम बुकमार्क बना सकते हैं।

अस्थाई Files की छुट्टी-
हमारे Computers पर बहुत सारे Programms अपनी अस्थायी Files बना लेते हैं जिनकी हमें ज़रुरत नही होती है। इनके कारण Computer की Speed काफी Slow हो जाती है। Start Menu-> Programs-> Accessories-> System Tools-> Disc Cleanup से अपनी ड्राईव का चयन करके हम इन फाईलों को हटा सकते हैं।
 

Windows+E दबाने पर-
Windows Explorolar या My Computer खुल जाता है। इस युक्ति के द्वारा हमें Start Button या My Computer ढूँढने की ज़रूरत नहीं होती, काम के बीच में ही हम बड़ी आसानी से अपनी Files तक पहुँच सकते हैं।
 

Windows में Inscript का ऑनस्क्रीन कीबोर्ड-
के लिये Start>Run बक्से में जाकर osk लिखकर Enter दबायें। आपके सामने On Screen Keyboard आ जायेगा, फिर Laungauge Hotkey दबाकर Hindi Launhauge में Switch करें तो Hindi Keyboard आपके सामने आ जायेगा।
 

किसी भी Browser में काम करते समय-
एक से ज्यादा tab Open होने पर Ctrl+F4 दबाने पर Current Tab Close हो जाता है। इसी प्रकार से Office में काम करते वक्त एक से ज्यादा Documents खुले होने पर Ctrl+F4 दबाने पर Current Document बन्द हो जाता है।
 

Windows+M या Windows+D दबाने पर-
सारी खुली हुई Windows एक साथ Minimize हो जाती हैं। Alt+F4 दबाने पर जिस Windows में आप काम कर रहे हैं वह बन्द हो जाती है।
 

Internet के उपयोग के लिये-
Address Bar पर कुछ लिख कर Ctrl+Enter दबाने पर लिखे हुए शब्द के प्रारम्भ में www और अन्त में .com अपने आप लगाकर Enter दब जाता है।
 

एक कदम सुरक्षा का
अपने Computer को Secured करने के लिए Control Panel-> User Account-> User पर जाकर Password डाला जा सकता हैं। Windows+L दबाने पर Keyboard और Screen इस प्रकार बंद हो जाता है जिसे Password डाले बिना दुबारा चालू नहीं किया जा सकता। यह युक्ति तभी काम करती है जब Password पहले से Set किया हुआ हो।
 

बनाएँ Web Page का Short Cut
Internet Explorar में Screen पर कहीं भी Mouse का दाहिना Button दबाए और खुलने वाली सूची में से Creat Shortcut चुनें। इससे Website का Shortcut बनकर Dextop पर आ जाएगा। यह Page बाद में कभी भी  यहाँ से आसानी से खोला जा सकता हैं।

एक Click में Time और Date
Notepad या Text File पर काम करते समय F5 'की' दबाकर जहाँ भी आवश्यकता हो, तात्कालिक Date or Time Type की जा सकती है।
 

यू एस बी USB -
USB एक PC से अन्य उपकरणों को जोड़ने के लिए एक मानक है जिसमें तारों की संख्या, Connecter के आकार तथा उनपर चलने वाले Electric संकेत सभी निर्दिष्ट किए गए हैं। USB की दो विशेषताएँ हैं - (१) सांकेतिक तारों (Signel Wires) का Electric Power उपलब्ध कराने के लिये भी उपयोग (इससे उपकरण को अलग से Electric से जोड़ने की ज़रूरत नहीं पड़ती) तथा (२) Connecters की मज़बूती और आसान प्रयोग। USB आजकल PC से अन्य उपकरणों को जोड़ने के लिए सबसे लोकप्रिय मानक है और कई पुराने मानकों का स्थान ले चुका है।

ब्लू रे Blu-Ray -
Blu-Ray CD तथा DVD के विकास की अगली कड़ी है। जहाँ एक CD पर लगभग 700 MB तथा एक DVD पर लगभग 4 GB डेटा आ सकता है, वहीं एक Blu-Ray की क्षमता 25GB होती है। इसकी Drive तथा Disk महँगी होने के कारण कम प्रचलित है।

क्लाउड कम्पयूटिंग Cloud Computing-
Cloud Computing एक ऐसी तकनीक है जिसके द्वारा स्थान मुक्त स्वरूप से साँझे Server कम्पयूटरों तथा अन्य उपकरणों को उनके आवश्यक्तानुसार संसाधन (अनुप्रयोग, Software एवं Data ) तथा अन्य सेवायें उपलब्ध कराते हैं।

ब्राउज़र एक्सटेंशन Browser Extension-
यह एक ऐसा छोटा Programm होता है जो Browser के साथ जुड़कर उसकी क्षमताओं का विस्तार करता है। यह Plugin से भिन्न होता है क्योकि जहाँ Plugin के द्वारा Browser नए प्रारूप की जानकारी पर काम कर सकता है वहीं Extension Browser में पहले से उपलब्ध क्षमताओं को नए स्वरूप में प्रयोग करके उसकी क्षमताओं को निखारते हैं।
FireFox के4500 से आधिक Extension उपलब्ध हैं। Chrome, Safari, Opera के लिए भी काफी संख्या में Extension उपलब्ध हैं।

वेब होस्टिंग Web Hosting- 
यह Internet पर प्रदान की जाने वाली एक ऐसी सेवा है जिसका प्रयोग करके कोई व्यक्ति अथवा संस्था अपने Website को लोगों तक पहुँचा सकता है। इसके द्वारा उनका Website Inernet पर उपलब्ध हो जाता है और कोई भी उस तक पहुँच कर उसे देख सकता है।

प्लगिन(Plugin)-
किसी भी अनुप्रयोग (application) विशेषतः Browser में लग जाने वाला एक अंश जो उस अनुप्रयोग की क्षमताओं को बढ़ा सकता है। उदाहरणतः Browseer के लिए फ़लैश प्लेएर(Flash player) एवं एक्रोबैट रीडर (Acrobat reader) Plugin के उदाहरण है।

कुकी(Cookie)-
कुकी किसी Website द्वारा आपके Browser में रखी गयी छोटी सी जानकारी अथवा सूचना को कहते हैं। जो Website आपके Browser पर Cookie रखता है केवल वही Website उस Cookie को वापस देख सकता है।

टॉप लेवल डोमेन Top Level Domain-
किसी जालस्थल (वेबसाइट) के नाम का वह अंतिम भाग है, जो किसी नामांकन संस्था (डोमेन रजिस्ट्रार) के अधिकार में होता है और जिसके अन्तर्गत वह Website नामांकित होता है। उदाहरण के लिए www.hindimeworld.ga में .ga टॉप लेवल डोमेन है। और www.ignou.ac.in में .ac.in टॉप लेवल डोमेन है।                                            

ब्राउजर Browser-
एक ऐसा अनुप्रयोग जिसके द्वारा विश्वजाल (इंटरनेट) पर उपलब्ध Website को देखा तथा उनपर काम किया जाता है। कुछ प्रचलित Browser हैं - इंटरनेट एक्सप्लोरर, Mossila Firefox,Google,Apple,Safari....... |


No comments:

Post a Comment

If you have any doubt. Please let me know

Followers